Saturday, 26 November 2011

गीता श्री कृष्ण की वाणी


1. 0689 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- GYAN YOGA -- BEST YAGYA
7:04
2. 0731 KRISHNA STORY -- MAHABHARAT -- ARJUN'S CHARIOT HIT BY NASTY BLOW!
8:02
3. 0687 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- KARMA AS YAGYAS -- TYPES OF YAGYAS
7:12
4. 0567 KRISHNA STORY -- HANUMAN MEET KRISHNA -- DWIT KILLED!.
6:29
5. 0693 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- MAYA -- REASON & HOW TO CONQUER IT
5:12
6. 0704 KRISHNA STORY BHAGWAT GITA ULTIMATE TRUTH MOKSHA EXPLAINED
4:52
7. 0697 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- DEVOTIONAL BHAKTI AND ARJUN CONVINCED
8:59
8. 0701 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- WORSHIP IN DIFFERENT FORMS AND FORMLESS WORSHIP
14:28
9. 0686 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- SANKHYA AND KARMA YOGA
5:09
10. 0680 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- DESIRES NEVER FULFILLED
4:39
11. 0667 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- REVIEW ON BHAGWAT GITA
14:34
12. 0677 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- STITHPRAGYA
3:40
13. 070 BHAGWAT GITA - Gyan Yoga vs Karma Yoga
2:55
14. 0703 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- REBIRTH EXPLAINED
15:44
15. 0649 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- KRISHNA PROVES ATMA DOES NOT DIE
2:58
16. 0692 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- SAMARPAN - AND HOW TO DO IT
6:04
17. 0675 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- KARMAYOGI CHARACTERISTICS
11:48
18. 0678 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- PRAVRUTTI AND TRIGUNATMATKA PRAKRUTI
4:21
19. 0702 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- CONCENTRATION IN GOD -- DHYAN YOGA
8:25
20. 0650 KRISHNA STORY -- BHAGWAT GITA -- DHRUSTHARA REACTS
3:57

Gगीता श्री कृष्ण की वाणी
हे प्रभु आप खुद ही माया में क्यों फंसाते हैं ?आप से बड़ा ज्ञानि इस ब्रह्मांड  में नही मिलने वाला क्या आप हमारे गुरु बनने के योग्य नही ,जो सांसारिक गुरु तलाशा जाए ?
  संपूर्ण गोपनीयों से अति गोपनीय मेरे परम रहस्ययुक्त वचन को तू फिर भी सुन। तू मेरा अतिशय प्रिय है, इससे यह परम हितकारक वचन मैं तुझसे कहूँगा॥64॥ हे प्रभु आप खुद ही माया में क्यों फंसाते हैं ?आप से बड़ा ज्ञानि इस ब्रह्मांड में नही मिलने वाला क्या आप हमारे गुरु बनने के योग्य नही ,जो सांसारिक गुरु तलाशा जाए ?
संपूर्ण धर्मों को अर्थात संपूर्ण कर्तव्य कर्मों को मुझमें त्यागकर तू केवल एक मुझ सर्वशक्तिमान, सर्वाधार परमेश्वर की ही शरण (इसी अध्याय के श्लोक 62 की टिप्पणी में शरण का भाव देखना चाहिए।) में आ जा। मैं तुझे संपूर्ण पापों से मुक्त कर दूँगा, तू शोक मत कर॥66॥
जो पुरुष मुझमें परम प्रेम करके इस परम रहस्ययुक्त गीताशास्त्र को मेरे भक्तों में कहेगा, वह मुझको ही प्राप्त होगा- इसमें कोई संदेह नहीं है॥68॥
उससे बढ़कर मेरा प्रिय कार्य करने वाला मनुष्यों में कोई भी नहीं है तथा पृथ्वीभर में उससे बढ़कर मेरा प्रिय दूसरा कोई भविष्य में होगा भी नहीं॥69॥
जहाँ योगेश्वर भगवान श्रीकृष्ण हैं और जहाँ गाण्डीव-धनुषधारी अर्जुन है, वहीं पर श्री, विजय, विभूति और अचल नीति है-

यदि ह्यहं न वर्तेयं जातु कर्मण्यतन्द्रितः ।
मम वर्त्मानुवर्तन्ते मनुष्याः पार्थ सर्वशः ॥
भावार्थ : क्योंकि हे पार्थ! यदि कदाचित्‌ मैं सावधान होकर कर्मों में न बरतूँ तो बड़ी हानि हो जाए क्योंकि मनुष्य सब प्रकार से मेरे ही मार्ग का अनुसरण करते हैं॥23॥
यदि उत्सीदेयुरिमे लोका न कुर्यां कर्म चेदहम्‌ ।
संकरस्य च कर्ता स्यामुपहन्यामिमाः प्रजाः ॥
भावार्थ : इसलिए यदि मैं कर्म न करूँ तो ये सब मनुष्य नष्ट-भ्रष्ट हो जाएँ और मैं संकरता का करने वाला होऊँ तथा इस समस्त प्रजा को नष्ट करने वाला बनूँ॥24॥

1 comment:

  1. य इमं परमं गुह्यं मद्भक्तेष्वभिधास्यति ।
    भक्तिं मयि परां कृत्वा मामेवैष्यत्यसंशयः ॥
    भावार्थ : जो पुरुष मुझमें परम प्रेम करके इस परम रहस्ययुक्त गीताशास्त्र को मेरे भक्तों में कहेगा, वह मुझको ही प्राप्त होगा- इसमें कोई संदेह नहीं है॥68॥
    न च तस्मान्मनुष्येषु कश्चिन्मे प्रियकृत्तमः ।
    भविता न च मे तस्मादन्यः प्रियतरो भुवि ॥
    भावार्थ : उससे बढ़कर मेरा प्रिय कार्य करने वाला मनुष्यों में कोई भी नहीं है तथा पृथ्वीभर में उससे बढ़कर मेरा प्रिय दूसरा कोई भविष्य में होगा भी नहीं॥69॥
    अध्येष्यते च य इमं धर्म्यं संवादमावयोः ।
    ज्ञानयज्ञेन तेनाहमिष्टः स्यामिति मे मतिः ॥
    भावार्थ : जो पुरुष इस धर्ममय हम दोनों के संवाद रूप गीताशास्त्र को पढ़ेगा, उसके द्वारा भी मैं ज्ञानयज्ञ (गीता अध्याय 4 श्लोक 33 का अर्थ देखना चाहिए।) से पूजित होऊँगा- ऐसा मेरा मत है॥70॥
    श्रद्धावाननसूयश्च श्रृणुयादपि यो नरः ।
    सोऽपि मुक्तः शुभाँल्लोकान्प्राप्नुयात्पुण्यकर्मणाम्‌ ॥
    भावार्थ : जो मनुष्य श्रद्धायुक्त और दोषदृष्टि से रहित होकर इस गीताशास्त्र का श्रवण भी करेगा, वह भी पापों से मुक्त होकर उत्तम कर्म करने वालों के श्रेष्ठ लोकों को प्राप्त होगा॥71॥
    कच्चिदेतच्छ्रुतं पार्थ त्वयैकाग्रेण चेतसा ।
    कच्चिदज्ञानसम्मोहः प्रनष्टस्ते धनञ्जय ॥
    भावार्थ : हे पार्थ! क्या इस (गीताशास्त्र) को तूने एकाग्रचित्त से श्रवण किया? और हे धनञ्जय! क्या तेरा अज्ञानजनित मोह नष्ट हो गया?॥72॥
    अर्जुन उवाच
    नष्टो मोहः स्मृतिर्लब्धा त्वप्रसादान्मयाच्युत ।
    स्थितोऽस्मि गतसंदेहः करिष्ये वचनं तव ॥
    भावार्थ : अर्जुन बोले- हे अच्युत! आपकी कृपा से मेरा मोह नष्ट हो गया और मैंने स्मृति प्राप्त कर ली है, अब मैं संशयरहित होकर स्थिर हूँ, अतः आपकी आज्ञा का पालन करूँगा॥73॥

    ReplyDelete